क्या हैं प्रत्यक्ष, परोक्ष और अपरोक्ष? | Pratyaksh, Paroksha And Aparoksha

2894 views | 05 Dec 2022

A seeker of truth need not necessarily be a scholar of sanskrit but needless to say that a well versed seeker will find it easier to tread the path, if he uses his knowledge wisely. Continuous reflection and contemplation on the meanings of vedantic terms exposes one to its deeper layers thus providing clarity to the seeker. If you too wish to learn a few vedantic terms then be quick to click and watch this video.

show more

Related Videos

Can anyone walk on this spiritual path?

How to improve ourself? (Video is in Hindi)

अपनी हर इच्छा के प्रति रहें सजग l Apni har ichha ke prati rahein sajag

How can I come and be in your presence gurumaa?

क्या आप हैं अज्ञान से दुखी ? | Kya aap hain agyan se dukhi? | Anandmurti Gurumaa

Why there is not any growth in my spiritual journey?

कैसे सरल बनाते हैं गुरु वेदांत ज्ञान को ?

क्या समाधि व सुषुप्ति एक समान हैं ? | Kya samadhi va sushupti ek saman hain?

पूर्ण गुरु ही कराते हैं उस अविनाशी की प्राप्ति | संत सम्मेलन, उज्जैन

जानिए मुक्ति का सरल मार्ग | Janiye mukti ka saral marg

सरलता से करें आत्मज्ञान!

क्या मन को हो सकता है ब्रह्मज्ञान?

क्या ब्रह्मज्ञान, ब्रह्म बोध और ब्रह्म स्थिति एक ही हैं?

मैं ब्रह्म हूँ, जानिए श्रवण-मनन-निदिध्यासन से | Main Brahman hun

कौन है? श्री राम की एक प्यारी कथा | Kaun hai? Shri Ram ki ek pyaari katha

कौन जानता है? | Kaun janta hai?

तुम सत्य स्वरुप हो, पहचानो! | Tum satya swaroop ho, pehchano!

शिवोहम शिवोहम | Bhajan | Nirvana Shatakam

क्या शरीर बिना साधना संभव? | Kya sharir bina sadhna sambhav

द्रष्टा और साक्षी में अंतर | Difference between Drashta & Sakshi

Decoding the subtle body | English | Part 5

काटो इस मन के जाल को l kaato iss mann ke jaal ko

वेदांत मार्ग की बाधाएँ | Vedanta marg ki badhayein

क्या जप से संभव है आत्मज्ञान? | Kya Japa se sambhav hai Atmagyan?

प्रपंच का बाध, जानिए सरल भाषा में | Prapanch ka Baadh

ईश्वर और जीव का भेद | Ishwara aur Jeeva ka bhed

वेदांत विचार किसकी कृपा से होता है? | Vedanta Vichar kiski kripa se hota hai?

मैं यह नहीं मैं वह नहीं कौन हूँ मैं?

आध्यात्म का मार्ग जैसे तलवार की धार

वृत्ति ही संसार है | The world exists only in the Vritti

Latest Videos

Related Videos